dishanjali kanya bhoj

दिशांजलि द्वारा नवरात्री पर गरीब बच्चों के लिए भोज का आयोजन – Dishanjali Bhopal

नवरात्रि में कन्या भोजन करवाना एक पुरानी परंपरा है।  हम हिंदू मानते हैं कि कन्या देवी का रूप होती है और नवरात्रि में देवी आराधना तभी पूर्ण होती है जब कन्या भोजन करवाया जाए । पंचमी, अष्टमी और नवमी के दिन इसका बहुत उत्साह होता है। इन दिनों हर घर में कन्या भोज का आयोजन होता है उस दिन कन्या भोजन करने वाली कन्याओं का पेट इतना भरा होता है कि वह घर में प्रवेश करते ही कुछ भी खाने से इनकार करने लगती हैं और कन्याओं के लिए बनाया गया बहुत सारा प्रसाद बच जाता है । पर फिर भी हम हर साल यही दोहराते हैं क्योंकि यह हमारी परंपरा है, हमारा मानना है कि अपने घर पर खाना खिलाने से देवी मां प्रसन्न होती हैं इसीलिए हम ऐसा ही करते हैं ।

 

dishanjali kanya bhoj


                  हम यह नहीं कहते कि कन्या भोजन न करवाएं, जरूर करवाएं, पर जब हम देवी मां की आराधना 9 दिन तक करते हैं तो कन्या भोजन के दिन निर्धारित क्यों करें ? पूरे 9 दिन देवी मां के हैं पहले दिन से नौवे दिन तक कभी भी कन्या भोजन करवाएँ और ऐसी कन्याओं को भोजन करवाएँ जो अभाव-ग्रस्त हैं जैसे किसी अनाथालय में जाकर कहीं झुग्गी-झोपड़ी में जाकर कन्या भोजन का आयोजन करें । ऐसी वस्तुओं का दान करें जिसकी उन्हें आवश्यकता है। भोजन करवाने का सही आनंद तब आता है जब भोजन करने वाला दिल से भोजन करे, कन्या भोज को अष्टमी और नवमी पर करने की परंपरा दिशांजलि परिवार ने बदल दी है ।

dishanjali kanya bhoj

                        दिशांजलि परिवार ने नवरात्रि के दूसरे दिन कन्या भोजन करवाया, वह भी किसी के घर पर नहीं बल्कि प्राथमिक शाला में, जहां 9 नहीं बल्कि 400 बच्चों में पेट भर भोजन किया और यह बच्चे विद्यालय के पास उसी विद्यालय के पास की झुग्गी झोपड़ी  में रहते हैं । दिशांजलि परिवार ने पूरी श्रद्धा और पारंपरिक तरीके से कन्या भोजन करवाया और सदस्यों ने स्वयं अपने हाथों से भोजन बनाकर कन्याओं को भोजन करवाया और उनका आशीर्वाद प्राप्त किया । कन्या भोज में आए यह सारे बच्चे उसी विद्यालय के विद्यार्थी हैं जिसमें कन्या भोज का आयोजन किया गया था ।
                  आपको बता दूं कि दिशांजली एक एजुकेशन एंड वेलफेयर सोसाइटी है जो लगभग 3 वर्षों से भोपाल और इंदौर में कार्य कर रही है परंतु इतने कम समय में ही दिशांजलि ने एक अच्छा मुकाम हासिल कर लिया है और उसका सारा श्रेय इसके सदस्यों को जाता है क्योंकि दिशांजलि वेलफेयर सोसाइटी के सभी साथी कम उम्र के नौजवान है जो स्वयं भी अध्यनरत हैं और साथ-साथ गरीब बच्चों को भी शिक्षा प्रदान कर रहे हैं। भोपाल में दिशांजली का 50 सदस्यों का परिवार है, और यह सारे सदस्य अपने कीमती समय में से समय निकालकर झुग्गी-झोपड़ियों के बच्चों को पढ़ाते हैं, जिस उम्र में नौजवान मस्ती करते हैं घूमते-फिरते हैं, वह छोटी उम्र में यह सदस्य एक नए समाज का निर्माण कर रहे हैं और पूरे जोश के साथ ख़ुशी के साथ ही काम कर रहे हैं ।

“दिशन्जलि के बारे में और जानने के लिए पड़े –  Inspiring Story of Dishanjali..!! “

dishanjali kanya bhoj

                    अगर हमारे देश के सभी नौजवान दिशांजलि के सदस्यों की तरह निस्वार्थ सेवा का भाव रखें और असहायों की मदद करें तो हम अपने देश की तस्वीर बदल सकते हैं, दिशांजलि एजुकेशन एंड वेलफेयर सोसायटी के बारे में अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट पर लॉग ऑन करें  Dishanjali.
                                                               “आप सभी को नवरात्रि की बहुत-बहुत शुभकामनाएं।”
Authored By:-
Mrs. Manisha Shrivastava



4 thoughts on “दिशांजलि द्वारा नवरात्री पर गरीब बच्चों के लिए भोज का आयोजन – Dishanjali Bhopal

  1. Suleena Sukumaran

    Good job, keep it up……..Dishanjali team makes us believe that kindness and goodness still exists…….
    Proud of you all

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *